All Jharkhand Competitive Exam JSSC, JPSC, Current Affairs, SSC CGL, K-12, NEET-Medical (Botany+Zoology), CSIR-NET(Life Science)

Saturday, May 22, 2021

Karmali Janjati Ka Samanya Parichay (करमाली जनजाति का सामान्य परिचय)

Karmali Janjati Ka Samanya Parichay 

➧ यह जनजाति झारखंड के सदन समुदाय की जनजाति है। 

➧ इस जनजाति का संबंध प्रोटो-ऑस्ट्रोलॉयड समूह से है। 

 इस जनजाति की मातृभाषा खोरठा है तथा बोलचाल हेतु करमाली भाषा (आस्ट्रो-एशियाटिक भाषा परिवार से संबंधित) का प्रयोग किया जाता है

करमाली जनजाति का सामान्य परिचय

➧ झारखंड में इनका मुख्यतः हजारीबाग, चतरा, कोडरमा, गिरिडीह, रांची, सिंहभूम और संथाल परगना में पाया जाता है

 समाज एवं संस्कृति 

 इस जनजाति के नातेदारी व्यवस्था हिंदू समाज के समान है

➧ यह जनजाति सात गोत्रों (कछुवार, कैथवार, संठवार, खालखोलहार , करहर , तिर्की और सोना) में विभाजित है

➧ इस जनजाति में आयोजित विवाह, विनिमय विवाह, राजी-खुशी विवाह, ढुकु विवाह आदि अत्यंत प्रचलित है

➧ इस जनजाति में वधू मूल्य को 'पोन' या 'हड़ुआ' कहा जाता है 

➧ इनके पंचायत के प्रमुख को मालिक कहा जाता है

 इस जनजाति में टुसु पर्व (अन्य नाम-मीठा परब या बड़का परब) प्रमुखता से मनाया जाता है इसके अतिरिक्त ये सरहुल, करमा, सोहराई, नवाखानी आदि पर्व मनाते हैं

➧ आर्थिक व्यवस्था

➧ ये एक दस्तकार या शिल्पकार जनजाति हैं तथा इनका परंपरागत पेशा लोहा गलाना और औजार बनाना है

 ➧अस्त्र -शस्त्र  के निर्माण में यह जनजाति अत्यंत दक्ष होती है 

धार्मिक व्यवस्था

➧ इनके प्रमुख देवता सिंगबोंगा है 

➧ इनके पुजारी को पाहन या नाया कहा जाता है 

➧ इस जनजाति में ओझा भी पाया जाता है जिसके पवित्र स्थान को देउकरी कहा जाता है

➧ इस जनजाति के लोग दामोदर नदी को अत्यंत पवित्र मानते हैं

👉 Previous Page:लोहरा जनजाति का सामान्य परिचय

                                                                            👉 Next Page:बंजारा जनजाति का सामान्य परिचय

Share:

0 comments:

Post a Comment

Unordered List

Search This Blog

Powered by Blogger.

About Me

My photo
Education Marks Proper Humanity.

Text Widget

Featured Posts

Popular Posts

Blog Archive