All Jharkhand Competitive Exam JSSC, JPSC, Current Affairs, SSC CGL, K-12, NEET-Medical (Botany+Zoology), CSIR-NET(Life Science)

Friday, August 28, 2020

Jharkhand Sichai Pariyojna (झारखंड सिंचाई परियोजना)


झारखंड सिंचाई परियोजना


(1)  वृहत सिंचाई 

(2) मध्यम सिंचाई 

(3) लघु सिंचाई 

(1) वृहत सिंचाई(Major Irrigation Project)

वृहत  सिंचाई परियोजना :- जिस परियोजना योजना के तहत 10,000 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में सिंचाई व्यवस्था विकसित की जाती है उसे वृहद सिंचाई परियोजना कहते हैं


 झारखंड राज्य में चलाई जा रही वृहत सिंचाई परियोजना है जो निम्न लिखित है। 

स्वर्णरेखा परियोजना :-  सिंहभूम जिला में पाँचवी पंचवर्षीय योजना अन्तर्गत 1974 में शुरू किया गया।  

कोनार परियोजना :-  यह परियोजना बोकारो और हजारीबाग में पांचवी पंचवर्षीय योजना अन्तर्गत 1974 में शुरू किया गया। ,

उत्तरी कोयल परियोजना :- यह परियोजना पलामू में  पांचवी पंचवर्षीय योजना अन्तर्गत 1974 में शुरू किया गया। 

 गुमानी जलाशय परियोजना :-यह परियोजना दुमका में  सातवीं पंचवर्षीय योजना अन्तर्गत शुरू किया गया। यह जलाशय साहेबगंज जिला के बरहेट प्रखंड के गुमानी नदी में है,इसका लाभ साहेबगंज और पाकुड़ को मिलेगा। 

 पुनासी  जलाशय परियोजना :-यह परियोजना देवघर में  सातवीं पंचवर्षीय योजना अन्तर्गत शुरू किया गया। पुनासी गाँव देवघर में है ,इसका लाभ देवघर ,मोहनपुर ,सारवां और दुमका जिला के सरैयाहाट प्रखण्ड सहित बहुत सारे किसान उठा सकेंगे। 

 इन परियोजनाओं के तहत संबंधित जिलों में सिंचाई की जाती है। 

(2) मध्यम  सिंचाई(Medium  Irrigation Project)


मध्यम सिंचाई परियोजना:- इस परियोजना के तहत 2000 हेक्टेयर से अधिक किंतु 10000 हेक्टेयर से कम क्षेत्र में सिंचाई व्यवस्था विकसित की जाती है उसे मध्यम सिंचाई परियोजना करते हैं


अभी तक झारखंड में 886 मध्यम सिंचाई परियोजनाएं लागू की गई है 

जिसमें 602 परियोजनाएं कार्यरत हैं
 
कार्यरत  योजनाओं में महत्वपूर्ण है जो निम्नलिखित है 

तोरई  बराज परियोजना :- दुमका में 1978 

सकरी गली पंप योजना :- साहिबगंज 1978

 कंस जलाशय परियोजना :- रांची 1979  
 
बटाने जलाशय परियोजना :- पलामू 1981  

➤ कतरी जलाशय परियोजना :-गुमला 1981  

➤सोनुआ जलाशय परियोजना :- पश्चिम सिंहभूम के सोनुआ प्रखण्ड के संजय नदी में  1982 में  आरंभ किया गया 
➤पतरातू  जलाशय परियोजना  :- राँची में 1982

➤केशो  जलाशय परियोजना :- हजारीबाग  1982 

➤सलइया   जलाशय परियोजना:-हजारीबाग  1982  

➤सतपोटका जलाशय परियोजना :-सिंहभूम  1982 

➤नकटी  जलाशय परियोजना:-सिंहभूम  1983 

➤रामरेखा जलाशय परियोजना:-गुमला  1983 

➤भैरव जलाशय परियोजना:-हजारीबाग  1984  

➤पंचखेरी  जलाशय परियोजना:- हजारीबाग  1984 

➤वासुकी  सिंचाई -सह -जलापूर्ति  परियोजना:- राँची  1984  

 धान सिंह टोली  जलाशय परियोजना:- गुमला 1986 

 सुरंगी  जलाशय परियोजना:- सिंहभूम 1987 

 अपर शंख जलाशय परियोजना:- गुमला 1987 

 कसजोर  जलाशय परियोजना:- गुमला 1989 

 औरंगा जलाशय परियोजना:- पलामू सातवीं  पंचवर्षीय योजना 

(3) लघु  सिंचाई( Minor Irrigation Project)

 लघु सिंचाई परियोजना :- लघु सिंचाई परियोजना के तहत 2000 हेक्टेयर से कम क्षेत्र में सिंचाई व्यवस्था विकसित की जाती है उसे लघु सिंचाई परियोजना करते हैं 

इस श्रेणी की परियोजना के तहत छोटे जलाशय, तलाब, रोक बांध, नलकूप इत्यादि की व्यवस्था की जाती है 

राज्य सरकार झारखंड पहाड़ी क्षेत्र उद्वह सिंचाई निगम लिमिटेड के माध्यम से विभिन्न लघु सिंचाई परियोजनाएं चलाई जा रही हैं

Share:

0 comments:

Post a Comment

Unordered List

Search This Blog

Powered by Blogger.

About Me

My photo
Education Marks Proper Humanity.

Text Widget

Featured Posts

Popular Posts

Blog Archive