All Jharkhand Competitive Exam JSSC, JPSC, Current Affairs, SSC CGL, K-12, NEET-Medical (Botany+Zoology), CSIR-NET(Life Science)

Friday, September 11, 2020

Jharkhand Ki Shaikshanik Sansthan Part-1(Educational institutes of Jharkhand)

झारखंड की शैक्षणिक संस्थान PART-1

(Educational Institutes Of Jharkhand)


झारखंड के प्रमुख विश्वविद्यालय



➤ रांची विश्वविद्यालय

➤ रांची विश्वविद्यालय की स्थापना 12 जुलाई 1960 ईस्वी को अविभाजित बिहार के बिहार विश्वविद्यालय (बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर बिहार विश्वविद्यालय) विभाजित कर की गई थी
 वर्तमान में इस विश्वविद्यालय में 23 स्नातकोत्तर विभाग, 15 अंगीभूत कॉलेज और 49 मान्यता प्राप्त संस्थान है
 इस विश्वविद्यालय का मुख्यालय रांची शहर में स्थित है

 बिरसा कृषि विश्वविद्यालय


बिरसा कृषि विश्वविद्यालय ,कांके रांची में स्थित है
 1956 ईस्वी में बिरसा कृषि कॉलेज की स्थापना की गई 
जिसे 26 जून 1981 को विश्वविद्यालय का दर्जा प्रदान किया गया 
1981 में स्थापित  कृषि विश्वविद्यालय राज्य का अकेला कृषि विश्वविद्यालय है 
इस के द्वारा राज्य के किसानों को कृषि, वानिकी, पशुपालन एवं पशु चिकित्सा की जानकारी सालों भर दी जाती है
राज्य में कृषि के विकास में इस विश्वविद्यालय का महत्वपूर्ण योगदान है

विनोबा भावे विश्वविद्यालय

विनोबा भावे विश्वविद्यालय की स्थापना 12 सितंबर 1992  ईस्वी को रांची विश्वविद्यालय को विभाजित कर की गई है

इस विश्वविद्यालय का मुख्यालय हजारीबाग शहर में है 

इस विश्वविद्यालय में हजारीबाग सहित कोडरमा, चतरा और धनबाद, गिरिडीह, बोकारो जिला के महाविद्यालय एवं शिक्षण संस्थान संबंद्ध है

सिदो कान्हू विश्वविद्यालय

➤सिद्धू-कान्हू विश्वविद्यालय की स्थापना 10 जनवरी 1992  ईस्वी को तिलका मांझी विश्वविद्यालय, भागलपुर को विभाजित कर की गई

इस विश्वविद्यालय का मुख्यालय दुमका शहर में है

इस विश्वविद्यालय में संथाल परगना प्रमंडल के महाविद्यालय एवं शिक्षण संस्थान  संबंद्ध है

नीलाम्बर-पीतांबर विश्वविद्यालय

नीलाम्बर- पीतांबर विश्वविद्यालय की स्थापना 17 जनवरी 2009 ईस्वी को रांची विश्वविद्यालय को विभाजित कर की गई 
इस विश्वविद्यालय का मुख्यालय मेदिनीनगर, पलामू में स्थित है

इस विश्वविद्यालय में पलामू प्रमंडल के महाविद्यालय एवं शिक्षण संस्थान  संबंद्ध है

कोल्हन विश्वविद्यालय

 कोल्हान विश्वविद्यालय की स्थापना 12 अगस्त 2009 ईस्वी को रांची विश्वविद्यालय को विभाजित कर की गई 

इस विश्वविद्यालय का मुख्यालय चाईबासा में स्थित है 

इस विश्वविद्यालय में पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम एवं सरायकेला-खरसावां के महाविद्यालय एवं शिक्षण संस्थान संबंद्ध है

केंद्रीय विश्वविद्याल  (सेंट्रल यूनिवर्सिटी), झारखंड

केंद्रीय विश्वविद्यालय (सेंट्रल यूनिवर्सिटी) झारखंड, विश्व स्तर की गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए केंद्रीय विश्वविद्यालय अधिनियम, 2009 के द्वारा झारखंड राज्य में रांची के ब्राम्बे में केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना की गई है 

इस विश्वविद्यालय का मुख्य उद्देश्य अनुसंधान एवं सामाजिक आर्थिक और सांस्कृतिक विकास के लिए संस्थान की सहभागिता को सुनिश्चित करना है 

यह विश्वविद्यालय अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों से सहयोग ले रहा है

चीन की तोहाई विश्वविद्यालय, थाईलैंड का ए0आई0 ई0 टी0,  यु0,के0 के बर्मिधम विश्वविद्यालय, कोरिया के सियोल विश्वविद्यालय से संबंध स्थापित कर छात्रों को विश्वस्तरीय गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं अनुसंधान का अवसर दिया जा रहा है

बिनोद बिहारी महतो विश्वविद्यालय

 विनोद बिहारी महतो विश्वविद्यालय, धनबाद वर्ष 2017 में है 

विनोबा भावे विश्वविद्यालय हजारीबाग से पृथक कर विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय का गठन किया गया है

राज्य के प्रसिद्ध शिक्षण संस्थान

 राज्य में उच्च शिक्षण संस्थानों की संख्या अप्रैल 2018 ईस्वी में 

💥केंद्रीय विश्वविद्यालय (1)

💥विधि विश्वविद्यालय (2)  

💥राज्य विश्वविद्यालय (8) 

💥कृषि विश्वविद्यालय (1)

💥निजी विश्वविद्यालय (9) 

💥डीम्ड विश्वविद्यालय और इंजीनियरिंग कॉलेज (15) है

भारतीय प्रबंधन संस्थान (आई.आई.एम), रांची

 प्रबंधन शिक्षा में श्रेष्ठता की परंपरा को जारी रखते हुए 6 जुलाई 2010 को आठवें भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना रांची में की गई है

मानव संसाधन मंत्रालय भारत सरकार के दिशा-निर्देश में आई.आई.एम. कोलकाता के व्यापक सहयोग एवं झारखंड सरकार के सहयोग से संचालित हो रहा है

बिड़ला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (बी0 आई0 टी0) मेसरा, रांची

झारखंड की राजधानी रांची से लगभग 15 किलोमीटर दूर मेसरा में स्थित है 

इस तकनीकी एवं प्रबंधन संस्थान की स्थापना 1955 ईस्वी में बी0एम0 बिड़ला के द्वारा की गई थी

 इस संस्थान में बैचलर डिग्री स्तरीय कुल 12 विभाग है 

तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में इस संस्थान का काफी महत्वपूर्ण स्थान है 

राष्ट्रीय संस्थागत फ्रेमवर्क 2018 ईस्वी के अनुसार इस संस्थान को रैंकिंग फ्रेमवर्क (भारत रैंकिंग)  2018 के अनुसार इस संस्थान को देश में 66 वां स्थान प्राप्त हुआ है 

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी फाउंड्री एंड फोर्ज टेक्नोलॉजी रांची

इस संस्थान की स्थापना भारत सरकार ने यू0 एन0 डी0 पी0 - यूनेस्को के सहयोग से 1966 ईस्वी में की

इस संस्थान ने मेटल कास्टिंग और फार्मिंग टेक्नोलॉजी में शिक्षण, प्रशिक्षण, शोध तथा विकास के क्षेत्र में काफी सराहनीय भूमिका निभाई है
 
यह संस्थान रांची-चाईबासा मार्ग पर स्थित है 

जेवियर समाज सेवी संस्थान रांची (एक्स.आई.एस. एस.) राँची 

संस्थान के संस्थापक फादर माइकल विन्डे  माने जाते हैं 

संत जेवियर्स कॉलेज के विस्तार विभाग के रूप में एक्स.आई. एस. एस. की स्थापना वर्ष 1955 में की गई थी 

फादर विन्डे संत जेवियर कॉलेज, रांची के इतिहास विभाग के व्याख्याता थे 

इस संस्थान का मुख्य उद्देश्य युवक-युवतियों को पर्सनल मैनेजमेंट,इंडस्ट्रियल रिलेशन,रूलर डेवलपमेंट सोशल वर्क के लिए प्रशिक्षित कर तैयार करना है 

भारतीय खनिज संस्थान (आई. एस. एम.),धनबाद

➤इसकी स्थापना 9 दिसंबर, 1926 को तत्कालीन अंग्रेज वायसराय लॉर्ड इरविन के द्वारा की गई थी 

यह भारत का तीसरा सबसे पुराना विश्वविद्यालय है 

इस संस्थान में माइनिंग समेत अन्य तकनीकी विषयों की पढ़ाई होती है

 इस संस्थान को 2016 में भारत सरकार के द्वारा आई.आई.टी. का दर्जा दिया गया है

राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (भारत रैंकिंग) 2018 के अनुसार इस संस्थान को देश में 27 वां स्थान प्राप्त हुआ  हुआ है 

जेवियर लेवर रिसर्च इंस्टिट्यूट (एक्स0 एल0 आर0 आई0)

इस संस्थान की स्थापना 1955 ईस्वी में सोसाइटी ऑफ़ जीसस के द्वारा की गई है  

यह जमशेदपुर में स्थित है 

 यह भारत का सबसे पुराना बिजनेस मैनेजमेंट स्कूल है 

 राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क 2018 ईस्वी के अनुसार इस संस्थान को देशों में मैनेजमेंट कॉलेजों में दसवां स्थान प्राप्त हुआ है 

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, बरही, हजारीबाग 

 इसकी स्थापना की आधारशिला 28 जून 2015 को प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी द्वारा रखी गई है  

इसकी स्थापना का मूल उद्देश्य कृषि क्षेत्र में समावेशी विकास करते हुए एकीकृत कृषि प्रणाली तैयार करना है  

इस संस्थान के द्वारा पूर्वी भारत में कृषि क्रांति लाना मुख्य लक्ष्य है 

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, (एन.आई.टी.), जमशेदपुर

इसकी स्थापना 1960 ईस्वी में रीजनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के रूप में हुई थी  

इसे 27 दिसंबर 2002 को नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की मान्यता प्रदान करते हुए डीम्ड यूनिवर्सिटी घोषित कर दिया गया है 

तकनीकी शिक्षा हेतु यह राज्य का प्रमुख शिक्षण संस्थान संस्था है 

महिला इंजीनियरिंग कॉलेज

 महिला इंजीनियरिंग कॉलेज रामगढ़ जिला के गोला में महिला इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना की जाएगी  

स्किल यूनिवर्सिटी

 खूंटी जिला में स्किल यूनिवर्सिटी, इंजीनियरिंग कॉलेज एवं नॉलेज सिटी की स्थापना की जाएगी 

3 नए मेडिकल कॉलेज की स्थापना पलामू, हजारीबाग, दुमका में 2017 में की गई है

 जिसका निर्माण कार्य चल रहा है

➤नगड़ी में मटर प्रसंस्करण इकाई की स्थापना की गई है

 गढ़वा, देवघर, हंसडीहा, गुमला और कांके में 5 नए कृषि महाविद्यालय की स्थापना की गई है

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय, रांची

 रांची विश्वविद्यालय को उत्क्रमित कर डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय, रांची के गठन हेतु झारखंड राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम संशोधन 2017 में पारित किया गया है

जनजातीय विश्वविद्यालय की स्थापना

 मध्य प्रदेश (अमर कंटक) में स्थापित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय के तर्ज़ पर झारखंड में वित्तीय वर्ष 2017-18 में केंद्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय की स्थापना का प्रस्ताव दिनांक 02. 02.2017 को मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार को भेजा गया है 

झारखंड रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय,खूंटी

 झारखंड में डिफेंस यूनिवर्सिटी खूंटी जिला के जरदाग में प्रतिष्ठित की जा रही है  

 यह गुजरात और राजस्थान के बाद देश की तीसरा डिफेंस यूनिवर्सिटी खुटी के जरदाग में 52 एकड़ जमीन पर झारखंड रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय परिसर का निर्माण किया जाएगा  

विश्वविद्यालय में हर वर्ष 300 से 500 छात्रों का नामांकन हो सकेगा  

विश्वविद्यालय की स्थापना का उद्देश्य सुरक्षा विज्ञान और प्रबंधन के क्षेत्र में बेहतर मानव संसाधन उपलब्ध कराना है 

झारखण्ड टेक्निकल यूनिवर्सिटी राँची

झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी का निर्माण का शिलान्यास रांची के नामकुम प्रखंड झारखंड में 9 जनवरी 2016 को राष्ट्रपति द्वारा किया गया 

इसके लिए नामकुम के सिरखाटोली स्थित साइंस परिसर में भूमि  चिन्हित  की गई है 

विश्वविद्यालय  भवन के निर्माण पर कुल 80 पॉइंट 98 करोड़ रूपये खर्च होंगे 

 गत 23 सितंबर को राज्य में प्राद्यौगिकी विश्वविद्यालय के निर्माण की स्वीकृति राष्ट्रपति द्वारा प्रदान की गई थी

झारखंड में तीन निजी नये विश्वविद्यालय की स्थापना की मंजूरी

झारखंड में तीन निजी नये विश्वविद्यालय की स्थापना की मंजूरी मिली है 

➤सरला बिरला विश्वविद्यालय, अरका जैन विश्वविद्यालय तथा वाईबीएन विश्वविद्यालय की मंजूरी 11 नवंबर 2016 को दी गई 

इस प्रकार कुल 8 निजी विश्वविद्यालय को झारखंड सरकार द्वारा मंजूरी प्रदान की गई है

नेतरहाट विद्यालय नेतरहाट, लातेहार

इसकी स्थापना 15 नवम्बर 1954 ईस्वी को चार्ल्स नेपियर के द्वारा हुई थी 

गुरुकुल शिक्षा नियम पर आधारित यह विद्यालय देश का गौरवपूर्ण विद्यालय है 

झारखंड के सरकारी विद्यालयों के छात्रों का प्रतियोगिता परीक्षा के आधार पर चयन करके उनका सर्वांगीण विकास करना इस  विद्यालय का मुख्य उद्देश्य है 

सैनिक स्कूल तिलैया

 इसकी स्थापना 16 सितंबर 1963 को कोडरमा जिले में तिलैया नामक स्थान पर की गई है

 इस संस्थान का मुख्य उद्देश्य रक्षा सेवा के लिए मानसिक और शारीरिक स्तर पर छात्र तैयार करना है

Share:

0 comments:

Post a Comment

Unordered List

Search This Blog

Powered by Blogger.

About Me

My photo
Education Marks Proper Humanity.

Text Widget

Featured Posts

Popular Posts

Blog Archive