All Jharkhand Competitive Exam JSSC, JPSC, Current Affairs, SSC CGL, K-12, NEET-Medical (Botany+Zoology), CSIR-NET(Life Science)

Sunday, January 17, 2021

jharkhand ke lokgeet (झारखंड के लोकगीत)

झारखंड के लोकगीत

Jharkhand Ke Lokgeet


जनजातियों का लोकगीत उनके जीवन पद्धति और सांस्कृतिक धारा का दर्पण है

जनजातीय लोकगीतों में सुख-दुख, हर्ष-विषाद और खुशी-निराशा की झलक मिलती है 

आकर्षक, उत्कंठा, वेदना, आनंद, सुनहरे अतीत की याद, जातीय आदर्श के पालन का आह्वान आदि इनके गीतों के मुख्य विषय होते हैं
 
जनजातियों लोकगीतों को दो भागों में विभाजित किया जाता है

पहला :-महिलाओं के द्वारा गाए जाने वाले लोकगीत, जैसे:-  जनानी , झूमर,  डोमकच, झूमता, अंगनई,  वियाह , झांझइन इत्यादि

दूसरा :- पुरुषों का लोकगीत जिसमें सभी प्रकार के गीत सम्मिलित हैं 

अन्य लोकगीतों में संस्कारगीत, गाथागीत, बीजमैल, सलहेस, दोना  भदरी, पर्वगीत , ऋतुगीत, पेशागीत, जातीयगीत आदि प्रमुख हैं 

संथालों  लोकगीतों  की संख्या बहुत अधिक है 

मौसम के अनुसार संथाली गीतों में दोड, लागेड़े ,सोहराई, मिनसार , बाहा , दसाय ,पतवार आदि प्रमुख है


जनजाति       
लोकगीत 

संथाल:-                           ⧪दोड (विवाहित संबंधी लोकगीत)

                                        विर सेरेन (जंगल लोकगीत) 

                                         सोहराय, लगड़े ,मिनसार, बाहा, दसाय, 

                                         पतवार, रिजा, डाटा, डाहार,मातवार

                                         भिनसार, गोलवारी, धुरु मजाक, रिंजो, झिका आदि                                                                     

मुंडा:-                               जदुर, (सरहुल/बाहा पर्व से संबंधित लोकगीत)

                                         गेना व ओर  जदुर( जदुर लोकगीत के पूरक)

                                        ⧪अडन्दी (विवाहित संबंधी लोकगीत)

                                        ⧪जापी (शिकार संबंधी लोकगीत)

                                        ⧪जरगा, करमा  

हो:-                                 वा (बसंत लोक गीत)

                                       ⧪ हैरो (धान की बुवाई के समय गाया जाने वाला लोकगीत)

                                       नोम नामा ( नया अन्न खाने के अवसर पर 

                                          गाया जाने वाला लोकगीत)

उरांव:-                             सरहुल (बसंत लोक गीत)

                                        जतरा  (सरहुल के बाद गाया जाने वाला लोकगीत)

                                         करमा (जतरा के बाद गाया जाने वाला लोकगीत)

                                        धुरिया, अषाढ़ी, जदुरा , मट्ठा आदि 

प्रमुख लोकगीत व उनके गाए जाने के अवसर 

लोकगीत             गाए जाने का असर 

झांझइन :-                        जन्म  संबंधी संस्कार के अवसर पर स्त्रियों  

                                         द्वारा गाया जाता है 


डइड़धरा :-                      वर्षा ऋतु में देवस्थानों में गाया जाता है 


प्रातकली :-                      इसका प्रदर्शन प्रात:काल किया जाता है 


अधरतिया:-                     इसका प्रदर्शन मध्य रात्रि में किया जाता है


कजली :-                        इसका गायन वर्षा ऋतु में किया जाता है

                                       टुनमुनिया , बारहमास  तथा  झूलागीत 

                                      स्थानीय संगीत के प्रकार है जो कजली की

                                       ही श्रेणी में आते हैं

औंदी:-                           यह गीत विवाह के समय गाया जाता है


अँगनई :-                       यह  स्त्रियों द्वारा गाया जाता है


झूमर:-                           इस गीत को विभिन्न त्योहारों

                                      (जैसे :- जितिया, सोहराई, करमा आदि) के अवसर   

                                      पर झूमर राग में गाया जाता है                         


उदासी तथा पावस :-    यह नृत्यहीन गीत है उदासी गर्मी के समय तथा

                                     पावस  वर्षा  के शुरू में गाया जाता  है                                                              

Share:

0 comments:

Post a Comment

Unordered List

Search This Blog

Powered by Blogger.

About Me

My photo
Education Marks Proper Humanity.

Text Widget

Featured Posts

Popular Posts

Blog Archive