All Jharkhand Competitive Exam JSSC, JPSC, Current Affairs, SSC CGL, K-12, NEET-Medical (Botany+Zoology), CSIR-NET(Life Science)

Wednesday, December 23, 2020

भौतिक भूगोल (Physical Geography)

भौतिक भूगोल(Physical Geography)


➤भौतिक भूगोल तथा मानव भूगोल मूल विषय की दो महत्वपूर्ण शाखाएं रही हैं  

भौतिक भूगोल, भौतिक पर्यावरण और उन विविध गतिविधियों से संबंधित है जो कि पृथ्वी के भौतिक भौतिक पर्यावरण में परिवर्तन लाते हैं 

➤इसकी  विविध उपशाखाएं हैं जो कि भौतिक पर्यावरण के विशिष्ट घटकों के अध्ययन से संबंधित है

भू-आकृति विज्ञान :- भू-आकृति विज्ञान को भौतिक भूगोल की उस शाखा के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो कि भूतल की बनावट के अध्ययन से संबंधित है

साधारण शब्दों में इसे स्थलाकृतियों के अध्ययन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है

➤चूकि यह विषय स्थलाकृतियों  के निर्माण से भी संबंधित है, इसलिए यह इनक निर्माण करने वाले पदार्थों के अध्ययन से भी संबंधित हैअत: भूपर्पटी में पाए जाने वाले पदार्थों तथा भूपर्पटी को प्रभावित करने वाले अंतजार्त तथा पर बर्हिजात बलों के अध्ययन को भी इसमें सम्मिलित किया जाता है

भौतिक भूगोल की शाखा भू-विज्ञान से काफी निकट रूप से संबंधित है 

जलवायु विज्ञान :-भौतिक भूगोल की यह शाखा वायुमंडल के संघटन,उसकी संरचना,ऊर्जा तथा वायुमंडल में होने वाले परिवर्तनों  का अध्ययन करती है 

भौतिक भूगोल की यह शाखा मौसम विज्ञान के निकट रूप से संबंधित है 

जलवायु विज्ञान मानव जीवन पर जलवायु के प्रभावों तथा संसार के विभिन्न भागों में पाए जाने वाले जलवायु का भी अध्ययन करता है

समुद्र विज्ञान :-समुद्र विज्ञान समुद्रों का अध्ययन करने वाला विषय है

समुद्र विज्ञान न केवल समुद्र तल के स्वरूप के स्वरूप से संबंधित है, बल्कि समुद्री जल के लक्षणों जैसे तापमान, लवणता,घनत्व और समुद्र में होने वाली गतिविधियों का अध्ययन करता है

जैव भूगोल :- जैव भूगोल जीवों एवं वनस्पतियों के उनके पर्यावरण से संबंधों का अध्ययन करता है

इस प्रकार इसमें पौधों तथा जंतुओं का अध्ययन शामिल है 

जैव भूगोल से संबंधित  क्षेत्र जैवमंडल कहलाता है

जैवमंडल वह क्षेत्र है जिसमें जीवन संभव है

इस क्षेत्र का विस्तार पृथ्वी के आंतरिक भाग से वायुमंडल तक है 

जैवमंडल में जलमंडल, स्थलमंडल और वायुमंडल को सम्मिलित किया जाता है

जैवमंडल  को विभिन्न शाखाओं में बांटा जा सकता है जैसे :- कि पौधों और उनके पर्यावरण का अध्ययन पादप भूगोल के नाम से तथा जंतुओं और उनके पर्यावरण के अध्ययन को जंतु भूगोल के नाम से जाना जाता है 

➤भूगोल की इस शाखा को पारिस्थितिकी भी कहा जाता है

Share:

0 comments:

Post a Comment

Unordered List

Search This Blog

Powered by Blogger.

About Me

My photo
Education Marks Proper Humanity.

Text Widget

Featured Posts

Popular Posts

Blog Archive