All Jharkhand Competitive Exam JSSC, JPSC, Current Affairs, SSC CGL, K-12, NEET-Medical (Botany+Zoology), CSIR-NET(Life Science)

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

Friday, December 25, 2020

Revolutions in India (Geography)

Revolutions in India 



Revolutions in India

 

Product

 

Person Associated with

 

Black Revolution

 

Petroleum Production

Dr. Arun Krishnan

Blue Revolution

Fisheries

Dr. Arun Krishnan

Brown Revolution

Leather Production/ Cocoa

Dr. Arun Krishnan

Evergreen Revolution 

Over-all development of Agriculture

Dr. Arun Krishnan

Grey Revolution

Housing development/ Fertilizers

Dr. Arun Krishnan

Golden Revolution

Horticulture, Honey-bee (Apiculture)

Nirpakh Tutej

Golden Fibre Revolution

Jute

Nirpakh Tutej

Green Revolution

Agriculture

Norman Borlaug, M.S. Swaminathan, W.Goad Durgesh Patel, Vishal Tiwari

Pink Revolution

Prawns, Onions, Pharmaceutical

Norman Borlaug, M.S. Swaminathan, W.Goad Durgesh Patel, Vishal Tiwari

Red Revolution

Meat & Tomato

Norman Borlaug, M.S. Swaminathan, W.Goad Durgesh Patel

Round Revolution

Potato

Indira Gandhi, Vergesh Kurien

Silver Fibre Revolution

Cotton

Indira Gandhi, Vergesh Kurien

Silver Revolution

Poultry & Eggs

Indira Gandhi

White Revolution

Dairy development

Vergesh Kurien

Yellow Revolution

Oil-seeds

Sam Pitroda

Protein Revolution

Technology-driven 2nd Green Revolution

Coined by PM Narendra Modi & FM Arun Jaitely


Share:

Thursday, December 24, 2020

Indian Classical Dance Form- Sattriya

Sattriya Dance

Sattriya dance in modern-form was established by the Vaishnava Saint Sankaradeva in the 15th century AD in Assam

The art form derives its name from the Vaishnava monasteries known as 'Sattara', where it was primarily practiced. It finds mention in the ancient text 'Natya Shashtra' of sage Bharat Muni. It is inspired by the Bhakti Movement.

Some of the hallmarks of the Sattriya dance include:

  • The dance form was an amalgamation of various dance forms prevalent in Assam, mainly Ojapali and Devdasi.

  • The focus of the Sattriya recitals is to own the devotional outlook of dance and narrates mythological stories of Vishnu.


  • The dance is generally performed in the group by male monks known as 'Bhoktas' as part of their daily rituals or even on festivals.

  • Khol (drum), Cymbals (Manjira), and Flute from the major escorting Implements of this dance form. The songs are the composition by Shankaradeva known as 'Borgeets'.


  • Costumes are worn by male dancers- 'Dhoti' and 'Paguri = turban'. While females wear traditional Assamese jewelry, 'Ghuri' and 'Chador' made in Pat Silk. Waistline cloth is worn by both men and women.

  • In modern times, Sattriya dance has matured into two separate streams- the Gayan-Bhayanar Nach and the Kharmanar Nach.

  • Ankia Naat: It is a type of Sattriya, it involves play or musical-drama. It was originally written in an Assamese-Maithili mix language called Brajavali. Another related form is 'Bhaona', which is based on stories of Lord Krishna.
Fig: Sattriya dance




Share:

Indian Classical Dance Form- Kathak

Kathak Dance

Finding its origins from the Ras Leela of Brajbhoomi, Kathak is the traditional dance form of Uttar Pradesh. 

Kathak procured its name from the 'Kathika' or the story-tellers who recited verses from the folk tales, with gestures and music.

During the Mughal era, the dance degenerated into a lascivious style and branched off into court dance. It was also determined by Persian costumes and styles of dancing. The classical style of Kathak was resuscitated by Lady Leela Sokhey in the 20th century.


Some of the hallmarks of Kathak are:

An important attribute of Kathak is the development of different gharanas as it is based on the Hindustani style of music:

  • Lucknow: Reached its pinnacle under the rule of Nawab Wajid Ali Shah. It puts more importance on expression and grace.

  • Jaipur: Initiated by Bhanuji, it emphasized fluency, speed, and long rhythmic patterns.

  • Raigarh: It developed under the encouragement of Raja Chakradhar Singh. It is idiosyncratic in its emphasis on percussion music.

  • Banaras: It developed under Janakiprasad. It sees greater use of floor and lays special emphasis on symmetry.

Kathak dance form is characterized by the use of serpentine footwork and pirouettes.


The element of a Kathak recital are:

  • Ananda or the introductory item through which the dancer set to foot into the stage.


  • Todas and Rukdas are small pieces of fast rhythm.

  • Jugalbandi is the main charisma of the Kathak recital which shows a competitive play between the dancer and the tabla player.

  •  Padhant is a special feature in which the dancer recites complicated bols and Illustrates them.

  • Tarana is similar to thillana, which comprises of pure rhythmic movements.


  • Gat bhaav is a dance without any music or chanting (chorus). This is used to outline different mythological episodes.

Kathak is generally accompanied by dhrupad music. Tarana, thumris, and ghazals were also introduced during the Mughal period.



Fig: Kathak Dance






Share:

Wednesday, December 23, 2020

आर्थिक भूगोल(Economic Geography)

आर्थिक भूगोल(Economic Geography)




➤अनेक भूगोलवेत्ता आर्थिक भूगोल को मानव भूगोल की एक महत्वपूर्ण आरंभिक शाखा मानते हैं जिसका आज के संदर्भ में भूगोल में अपना एक विशिष्ट अधिकार क्षेत्र है

भूगोल की यह  शाखा मानव की आर्थिक क्रियाओं के स्थानिक प्रारूपों का अध्ययन करती है

इसके अतिरिक्त यह शाखा विभिन्न आर्थिक क्रियाओं के विकास में भौतिक तथ्यों  के प्रभाव एवं भूमिका के अध्ययन तथा प्रादेशिक विशिष्ट करण और आर्थिक क्रियाओं और व्यापार आदि की वृद्धि का अध्ययन भी करती है 

भूगोल की इस शाखा ने कई अन्य उपशाखाओं को जन्म दिया है जिसमें से कुछ उपशाखाऐ  निम्नलिखित हैं  

कृषि भूगोल :- भूगोल की यह शाखा कृषि के विकास में प्राकृतिक एवं भौगोलिक तत्वों के प्रभाव का अध्ययन करती है 

कृषि कार्यकलापों, भूमि उपयोग एवं फसलों के स्थानिक प्रारूपों का अध्ययन भी इस शाखा के अध्ययन क्षेत्र के अंग हैं 


औद्योगिक भूगोल :- कृषि भूगोल के समान ही औद्योगिक भूगोल भी आर्थिक भूगोल की एक शाखा है
जो कि औद्योगिक गतिविधियों के स्थानिक प्रारूपों का अध्ययन करती है

औद्योगिक भूगोल के कार्य क्षेत्र में औद्योगिक अवस्थित के सिद्धांतों को भी सम्मिलित किया जाता है


➤किसी क्षेत्र के उपस्थित परिवहन तंत्रों के अध्ययन के अतिरिक्त परिवहन भूगोलवेत्ता भविष्य के लिए इन तंत्रों के विकास की रूपरेखा भी सुझाते हैं 

संसाधन भूगोल :- यह आर्थिक भूगोल की एक महत्वपूर्ण शाखा है जो की संसाधनों के स्थानिक वितरण के अध्ययन से संबंधित है  

संभावित संसाधनों का आकलन और उनके संरक्षण की आवश्यकता तथा इसके उपाय संसाधन भूगोलवेत्ताओं के आकर्षण एवं रुचि के विषय है 

विकास का भूगोल :- भूगोल की यह नई शाखा आर्थिक विकास के अन्वेषण से संबंधित है 


उक्त के अतिरिक्त अन्य शाखाएं भी है जिसमें ऐतिहासिक भूगोल, सैनिक भूगोल,प्रादेशिक भूगोल, मौलिक भूगोल,चिकित्सा भूगोल, लिंग अध्ययन आदि को शामिल किया जाता है
Share:

Indian Classical Dance Form- Odissi

Odissi Dance

The caves of Udayagiri-Khandagiri furnish some of the earliest examples of Odissi dance.

The dance derives from the 'Odra nritya' mentioned in Natya Shastra. It was primarily practiced by the 'Maharshi' and patronized by the Jain King Kheravela.

With the emergence of Vaishnavism in the region, the Mahari system became defunct. Instead, young boys were enlisted and dressed as females to continue the art form. They came to be known as 'Gotipuas'. Another form of this art, 'Nartala' continued to be practiced at the royal courts.

In the mid-20th century, Odissi acquired International applaud due to the efforts of Charles Fabri and Indrani Rahman


Some of the features of Odissi dance are:


  • The tribhanga postures, i.e. the three-bended form of the body are innate to the Odissi dance form. Also, the 'Chowk' posture with hands spread out Illustrates masculinity.

  • During the dance, the lower body remains largely static and there is the movement of the torso (upper arm). Hand gestures play a vital role to convey expressions during the Nritya part.

  • Odissi dance form is eccentric in its representation of gracefulness, sensuality, and beauty. The dancers create serpentine geometrical shapes and patterns with the body. Hence is known as 'mobile sculpture'.

  • Odissi dance is escorted by Hindustani classical music and instruments generally used are Manjira (Cymbals), Pakhawaj (Drums), Sitar, Flute, etc.


  • The libretto (lyrics) of Gita Govinda, written by Jayadeva, is used along with compositions of some local poets.

  • The woman dancer wears an elaborate hair-style, silver jewelry, a long necklace, etc.


The elements of the Odissi dance form include:

  • Mangalacharan or the emergence where a flower is offered to mother earth.

  • Batu nritya comprising of the dance. It has the Tribhanga and the Chowk postures.

  • Pallavi which includes the facial pronouncement and the representation of the song.

  • Tharijham consisting of pure dance before the conclusion.

  • The concluding item is of two types: (1.) Moksha - it includes joyous movements signifying liberation. (2.) Trikhanda Majura - it is another way of concluding, in which the performer takes leave from the Gods, the audience, and the stage.


Famous proponents: Gur Pankaj Charan Das, Guru Kelu Charan Mohapatra, Sonal Mansingh, Sharon Lowen (USA), Anadani Dasi (Argentina).
Fig: Tribhanga stance (Odissi)



Fig: Odissi Dance







Share:

मानव भूगोल (Human Geography)

मानव भूगोल (Human Geography)


मानव भूगोल

➤मानव भूगोल भी मूल विषय की एक प्रमुख शाखा है
 

मानव भूगोल, पृथ्वी पर मानवीय क्रियाओं के अध्ययन से संबंधित है 

इसके अंतर्गत मानव समूहों तथा उनकी संस्कृति विशेषताओं के अध्ययन को भी सम्मिलित किया जाता है 

मानव बसाव, मानवीय कार्यकलापों के विकास की प्रक्रिया और मानव के विश्व की विभिन्न भागों को अपने अनुकूल बनाने की प्रक्रिया भी मानव भूगोल के अध्ययन के अंतर्गत आने वाले महत्वपूर्ण विषय है 

भूगोल की इस प्रमुख शाखा की कई शाखाएं हैं जिसमें से कुछ महत्वपूर्ण उप शाखाएं निम्नलिखित है:-

जनसंख्या भूगोल :- जनसंख्या भूगोल का विषय क्षेत्र मानव भूगोल के काफी समान है परंतु इसकी परिभाषा अपेक्षाकृत अधिक सीमित है 


भूगोल की यह शाखा जनसंख्या समूहों, उनकी सामाजिक एवं भाषा संबंधी संरचना के अतिरिक्त जनसंख्या वृद्धि और गतिशीलता के सिद्धांतों एवं नियमों का अध्ययन से संबंधित है 

सांस्कृतिक भूगोल :- मानव भूगोल  की यह शाखा समय के साथ परिवर्तनशील  विविध सांस्कृतिक क्रियाओं तथा प्रक्रमों का किसी क्षेत्र के  मानवीय पर्यावरण के संदर्भ में अध्ययन करती है

सांस्कृतिक भूगोलवेत्ताओं  के अनुसार विभिन्न संस्कृतियां मानव तथा उसके पर्यावरण की पारस्परिक अन्त:क्रिया का परिणाम होती है 


अधिवास भूगोल:- मानव अधिवासों का विकास, उनका  अपने पर्यावरण में सहसंबंध और उनके विभिन्न प्रकारों का अध्ययन, भूगोल की इस शाखा का कार्यक्षेत्र है

इसके अतिरिक्त अधिवास भूगोल के अंतर्गत अधिवासों के विवरण के अध्ययन को भी सम्मिलित किया जाता है

➤अधिवासों में  के आंतरिक संगठन के साथ-साथ यह विषय अधिवासों में व्यक्तियों तथा यातायात के प्रवाह का भी अध्ययन करता है

अधिवास भूगोल को सामान्यतया  नगरीय तथा ग्रामीण भूगोल में विभाजित किया जाता है 

राजनैतिक  भूगोल :- यह मानव भूगोल की एक और प्रमुख  शाखा है तथा विभिन्न क्षेत्रों के राजनैतिक संगठन समय के साथ इसमें होने वाले परिवर्तनों तथा राजनीति में भूगोलिक तथ्यों की भूमिका के अध्ययन से संबंधित है 

➤भू -राजनीति इस विषय का एक महत्वपूर्ण अंग है जो भूगोलिक तत्वों के आधार पर विभिन्न क्षेत्रों के राजनैतिक महत्व का निर्धारण व मूल्यांकन करता है 

 
इस शाखा को चुनावी भूगोल कहा जाता है
Share:

भौतिक भूगोल (Physical Geography)

भौतिक भूगोल(Physical Geography)


➤भौतिक भूगोल तथा मानव भूगोल मूल विषय की दो महत्वपूर्ण शाखाएं रही हैं  

भौतिक भूगोल, भौतिक पर्यावरण और उन विविध गतिविधियों से संबंधित है जो कि पृथ्वी के भौतिक भौतिक पर्यावरण में परिवर्तन लाते हैं 

➤इसकी  विविध उपशाखाएं हैं जो कि भौतिक पर्यावरण के विशिष्ट घटकों के अध्ययन से संबंधित है

भू-आकृति विज्ञान :- भू-आकृति विज्ञान को भौतिक भूगोल की उस शाखा के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो कि भूतल की बनावट के अध्ययन से संबंधित है

साधारण शब्दों में इसे स्थलाकृतियों के अध्ययन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है

➤चूकि यह विषय स्थलाकृतियों  के निर्माण से भी संबंधित है, इसलिए यह इनक निर्माण करने वाले पदार्थों के अध्ययन से भी संबंधित हैअत: भूपर्पटी में पाए जाने वाले पदार्थों तथा भूपर्पटी को प्रभावित करने वाले अंतजार्त तथा पर बर्हिजात बलों के अध्ययन को भी इसमें सम्मिलित किया जाता है

भौतिक भूगोल की शाखा भू-विज्ञान से काफी निकट रूप से संबंधित है 

जलवायु विज्ञान :-भौतिक भूगोल की यह शाखा वायुमंडल के संघटन,उसकी संरचना,ऊर्जा तथा वायुमंडल में होने वाले परिवर्तनों  का अध्ययन करती है 

भौतिक भूगोल की यह शाखा मौसम विज्ञान के निकट रूप से संबंधित है 

जलवायु विज्ञान मानव जीवन पर जलवायु के प्रभावों तथा संसार के विभिन्न भागों में पाए जाने वाले जलवायु का भी अध्ययन करता है

समुद्र विज्ञान :-समुद्र विज्ञान समुद्रों का अध्ययन करने वाला विषय है

समुद्र विज्ञान न केवल समुद्र तल के स्वरूप के स्वरूप से संबंधित है, बल्कि समुद्री जल के लक्षणों जैसे तापमान, लवणता,घनत्व और समुद्र में होने वाली गतिविधियों का अध्ययन करता है

जैव भूगोल :- जैव भूगोल जीवों एवं वनस्पतियों के उनके पर्यावरण से संबंधों का अध्ययन करता है

इस प्रकार इसमें पौधों तथा जंतुओं का अध्ययन शामिल है 

जैव भूगोल से संबंधित  क्षेत्र जैवमंडल कहलाता है

जैवमंडल वह क्षेत्र है जिसमें जीवन संभव है

इस क्षेत्र का विस्तार पृथ्वी के आंतरिक भाग से वायुमंडल तक है 

जैवमंडल में जलमंडल, स्थलमंडल और वायुमंडल को सम्मिलित किया जाता है

जैवमंडल  को विभिन्न शाखाओं में बांटा जा सकता है जैसे :- कि पौधों और उनके पर्यावरण का अध्ययन पादप भूगोल के नाम से तथा जंतुओं और उनके पर्यावरण के अध्ययन को जंतु भूगोल के नाम से जाना जाता है 

➤भूगोल की इस शाखा को पारिस्थितिकी भी कहा जाता है

Share:

Unordered List

Search This Blog

Powered by Blogger.

About Me

My photo
Education Marks Proper Humanity.

Text Widget

Featured Posts

Popular Posts