All Jharkhand Competitive Exam JSSC, JPSC, Current Affairs, SSC CGL, K-12, NEET-Medical (Botany+Zoology), CSIR-NET(Life Science)

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

SIMOTI CLASSES

Education Marks Proper Humanity

Wednesday, January 13, 2021

Plant Tissue - NEET (Botany)

Plant Tissue-NEET (Botany)



Plant Tissue
:
A group of cells having essentially a common function and origin is called a tissue. The plant tissue is made up of a group of cells. These cells may be either similar or dissimilar in structure, function, and origin. Plant of higher-level shows this level of cellular organization.

Fig: Plant Tissue Flowchart

Plant tissues are broadly categorized into three tissue systems. This classification is based on parts of the plants that are present.

  • Epidermis Tissue: cells formed from the outermost surface of the leaves.

  • Vascular Tissue: involved in transporting fluid and nutrients internally.
  • Ground Tissue: involved in producing nutrients by photosynthesis and preserve nutrients.

Plant tissues are grouped as two types based on their ability to divide:

A. Meristematic Tissue. 
B. Permanent Tissue.


A. MERISTEMATIC TISSUE:

  • It is a group of young cells, which consists of continually dividing cells and helps in the increase of length and width of the plant.
  • These are living cells with the ability to divide into the regions where they are present.
  • These are polyhedral or isodiametric in shape without intercellular spaces.
  • The cell wall is thin, elastic, mainly composed of cellulose.
  • Protoplasm is dense with a distinct nucleus at the center and vacuoles if present, are very small.
  • Cells show a high rate of metabolism.
  • It is involved in the movement of water and nutrition within the plants.
  • These tissues are responsible for both the primary and secondary growth of the plant.
  • It is the outermost tissue, functions by providing protection from mechanical injury.
  • It gives rise to the epidermis layer, cortex, endodermis, ground tissue, and vascular tissue.

Classification of Meristem:

Following criteria are used for the classification of meristems viz. origin, function, and position as follows:

A. Origin:

Primordial Meristem or Promeristem

  • It is also called an embryonic meristem.
  • It is usually occupying a very minute are at the tip of the root and shoot.

Primary Meristem

  • It originates from the primordial meristem and occurs in the plant body from the beginning, at the root and shoot apices.
  • Cells are dividing and different permanent tissues are produced from primary meristems.

Secondary Meristem

  • It develops from living permanent tissues during later stages of plant growth; hence are called secondary meristems.
  • This tissue occurs in the mature regions of the root and shoot of many plants. 

B. Position:

Apical Meristem:

  • It is produced from promeristem and forms a growing point of apices of roots, shoots, and their lateral branches.
  • It brings about an increase in the length of the plant body and is called apical initials.
  • Shoot apical meristem is terminal in position whereas in root it is subterminal i.e. located below the root cap.
  • Intercalary meristematic tissue is present in the top or base area of the node.
  • Their activity is mainly seen in monocots.
  • They are short-lived.

Lateral Meristem:

  • It is present along the sides of a central axis of organs.
  • It takes part in increasing the girth of stem or root, eg. intrafascicular cambium.
  • It is found in vascular bundles of gymnosperms and dicot angiosperms.


C. Functions:

  • The young growing root of the plant has Protoderm that forms a protective covering like epidermis around the various organs.
  • Meristem called Procambium is involved in developing primary vascular tissue while the other structures like cortex, endodermis, pericycle medullary rays, pith are formed from the region of the ground meristem. These three groups of meristem are based on the functions.
B. PERMANENT TISSUE:
  • This is a group of cells that have lost the capacity of division and acquired permanent size, shape, and functions.
  • They are offer elasticity, flexibility, and strength to the plant.

Depending upon the types of cells, there are two types as simple and complex permanent tissues.


1. SIMPLE PERMANENT TISSUE:

  • These are made up of only one type of cells carrying similar functions.
  • This tissue is either living or dead.
  • The types of simple permanent tissues: Parenchyma, Collenchyma, Sclerenchyma.

A. Parenchyma:

  • Cells in this tissue are thin-walled, isodiametric, round, oval to polygonal, or elongated in shape.
  • The cell wall is composed of cellulose.
  • The cells are living with a prominent nucleus and cytoplasm with large vacuoles.
  • This is less specialized permanent tissue.
  • The parenchyma has distinct intercellular spaces. Sometimes, cells may show a compact arrangement.
  • The cytoplasm of adjacent cells is interconnected through plasmodesmata and thus forms a continuous tissue.
  • These cells are distributed in all the parts of the plant body viz. epidermis, cortex, pericycle, pith, mesophyll cells, endosperm, xylem, and phloem.

Functions:

  • The cells stores food, water, help in gaseous exchange, increase buoyancy, perform photosynthesis, and different functions in the plant body.
  • Differentiation in parenchyma cells develops vascular cambium and cork cambium at the time of secondary growth.
  • Some parenchymatous cells perform as storage chambers for starch in vegetables and fruits.


Fig: Parenchyma tissue


B. Collenchyma:
  • It is a simple permanent tissue made up of living cells.
  • The cell wall is cellulosic but shows uneven deposition of cellulose and pectin especially at corners.
  • The cell wall may show the presence of pits. 
  • The cells are similar to parenchyma containing cytoplasm, nucleus, and vacuoles but small in size and without intercellular gaps. Thus appears to be compactly packed.
  • Shape: either circular, oval, or angular in the transverse section.
  • Collenchyma is usually absent in monocots and roots of the dicot plant.

Functions:

  • Collenchyma is living mechanical tissue and serves different functions in plants.
  • It gives mechanical strength to young stems and parts like the petiole of the leaf.
  • It allows bending and pulling action in plant parts and also prevents tearing of leaf.
  • Growth of organs and elongation.

Fig: Collenchyma tissue


C. Sclerenchyma:
  • It is simple permanent tissue made up of compactly arranged thick-walled dead cells.
  • The cells are living at the time of production but at maturity they become dead.
  • As cells are devoid of cytoplasm their thickened walls are due to uniform deposition of lignin.
  • The cells remain interconnected through several pits.

It is of two types: 1.) Fibers & 2.) Sclerids.

1.) Fibers

  • It is a thread-like, elongated, and narrow structures with tapering and interlocking end walls.
  • These are mostly in bundles, pits are narrow, unbranched, and oblique.
  • They provide mechanical strength.

2.) Sclerids:

  • It is usually broad, with blunt end walls.
  • These occur singly or in loose groups and their pits are deep branched and straight.
  • These are developed due to the secondary thickening of parenchyma cells and provide stiffness only.

Functions:

  • This tissue functions as the main mechanical tissue.
  • It permits bending, shearing, and pulling.
  • It gives rigidity to leaves and prevents them from falling.
  • It also gives rigidity to epicarps and seeds.
  • Commercial fibers are also produced from sclerenchyma fibers. e.g. jute, flax, hemp.

2. COMPLEX PERMANENT TISSUE:
  • This tissue is heterogeneous comprising more than one type of cell and all function as a single unit.
  • This tissue is involved in conducting the sap and food from source to sink area.
  • This type of complex permanent tissue: Xylem, Phloem.
Fig: Complex Permanent Tissue


A. Xylem:
  • It is dead complex tissue.
  • The xylem also provides mechanical strength to the plant body.
  • Tracheids and Vessels conduct water and minerals. These are known as hadrome = the part of the xylem mestome that conducts water and nutrients.
  • In pteridophytes and gymnosperms, tracheids are conducting elements and vessels in angiosperms, Selaginella (Pteridophyte) and Gnetum (Gymnosperm) show the presence of vessels.

1.) Tracheids:

  • It is elongated, tubular, and dead cells.
  • The ends are oblique and tapering.
  • The cell walls are uniformly thickened and dignified. This provides mechanical strength.
  • It contributes 95% of the wood in Gymnosperms and 5% in Angiosperms.
  • The different types of thickening patterns are seen on their walls such as annular (in the form of rings), spiral (in the form of spring/helix), scalariform (ladder-like), pitted is the most advanced type (small circular area) which may be simple or bordered.

2.) Vessels:

  • It is longer than tracheids with perforated or dissolved ends and formed by the union of several vessels end to end.
  • These are involved in the conduction of water and minerals.
  • Their lumen is wider than tracheids and the thickening is due to lignin and similar to tracheids.
  • In monocot, vessels are rounded.
  • In Dicot angiosperm, vessels are angular.
  • The first formed xylem vessels (protoxylem) are small and have either annular or spiral thickening.
  • The later formed xylem vessels (metaxylem) have reticulate or pitted thickenings.
  • Endarch: When protoxylem is arranged towards pith and metaxylem towards the periphery. E.g. in the stem.

  • Exarch: When metaxylem is arranged towards pith and protoxylem towards the periphery. E.g. in the roots.

Fig: Tracheids & Vessels (Xylem tissue)


3.) Xylem Parenchyma (Only living tissue):
  • The cells are small associated with tracheids and vessels.
  • This is the only living tissue among the complex tissue.
  • The function is to store food (starch) and tannins.
  • It is involved in lateral or radial conduction of water or sap.

4.) Xylem Fibers:

  • The tissue is sclerenchymatous cells and serves mainly mechanical support.
  • These are called wood fibers.
  • Shape: elongated, narrow, spindle.
  • Cells are tapering at both ends and their walls are lignified.

B. Phloem (Bast):

  • This is a living tissue. It is called as bast.
  • Phloem is responsible for the conduction of organic food material from a source (generally leaf) to a sink (other plant parts).
  • It was named leptome by Haberlandt as similar to the xylem.
  • Based on origin, it is first formed (Proto) and lately formed (Meta) phloem.
  • It is composed of sieve cells, sieve tubes, companion cells, phloem parenchyma, and phloem fibers.

1.) Sieve tubes:

  • It is a long tubular conducting channel of phloem.
  • These are placed end to end with bulging at end walls.
  • The sieve tube has a sieve plate formed by septa with small pores.
  • The sieve plates connect the protoplast of the adjacent sieve tube cells.
  • The sieve tube cell is connected to a companion cell through phloem parenchyma by plasmodesmata.
  • Sieve cells are found in the lower plants like pteridophytes and gymnosperms.
  • The cells are narrow, elongated with tapering ends and a sieve are located laterally.

2.) Companion cells:

  • This is narrow elongated and living.
  • These cells are laterally associated with sieve tube elements.
  • The companion cells have dense cytoplasm and prominent nucleus.
  • The nucleus of the companion cell regulates the functions of the sieve tube cells through simple pits.
  • From an original point of view, the sieve tube cells and companion cells are derived from the same cell.
  • The death of the one results in the death of the other type.

Fig: Sieve tubes & Companion cells


3.) Phloem Parenchyma:
  • The cells are living, elongated found associated with sieve tube and companion cells.
  • The chief function is to store food, latex, resins, mucilage, etc.
  • The cells carry out lateral conduction of food material.

4.) Phloem Fibers (only Dead tissue):

  • These are the only dead tissue among the phloem. These are sclerenchymatous. 
  • It is generally absent in the primary phloem but present in the secondary phloem.
  • These cells are with lignified walls and provide mechanical support.
  • They are used in making ropes and rough clothes.










Share:

Wednesday, January 6, 2021

Jharkhand Ke Pramukh Lok Nritya (झारखंड के प्रमुख लोक नृत्य)

Jharkhand Ke Pramukh Lok Nritya


झारखंड के प्रमुख लोक नृत्य


छऊ नृत्य

यह झारखंड का सबसे महत्वपूर्ण लोक नृत्य है
युद्ध भूमि से संबंधित यह लोक-नृत्य शारीरिक भाव-भंगिमाओं, ओजस्वी स्वरो  तथा पगो की धीमी व तीव्र गति द्वारा संचालित होता है

इस नृत्य की दो श्रेणियां हैं

1) हातियार श्रेणी तथा 
2) काली भंग श्रेणी 

सरायकेला राज-घराने में पल्लवित हुआ, इस नृत्य का विदेश में (यूरोप में) सबसे पहले प्रदर्शन 1938 में सरायकेला के राजकुमार सुधेन्दु नारायण सिंह ने करवाया था

यह ओजपूर्ण नृत्य शैली है, जिसमें पौराणिक एवं ऐतिहासिक कथाओं के मंचन के लिए पात्र तरह-तरह के मुखोटे धारण करते हैं


झारखंड की लोक शैली के नृत्यों में यह  पहला नृत्य है, जो सिर्फ दर्शकों के लिए प्रदर्शित होता है 

झारखंड के अन्य सभी लोक नृत्यों में सिर्फ भावभिव्यक्ति ही होती है। उनके साथ कोई प्रसंग या कथानक नहीं होता। 
छऊ में प्रसंग या कथानक हमेशा मौजूद रहता है
 
अन्य लोक नृत्यों के संचालन में किसी गुरु या प्रशिक्षित शिक्षक की उपस्थिति नहीं होती, किंतु छाऊ नृत्य में उस्ताद या गुरु की उपस्थिति आवश्यक होती है 

पाइका नृत्य 

यह एक ओजपूर्ण नृत्य है, जिसमें नर्तक  सैनिक वेश में नृत्य करते हैं। 
 
इसमें नर्तक  रंग-बिरंगे झिलमिलाती कलगी लगी या मोर पंख लगी पगड़ी बांधते हैं। 
यह एक प्रकार का युद्ध से संबंधित नृत्य है और 
मुंडा जनजातियों का एक प्रमुख नृत्य है। 

नटुआ नृत्य

यह  पुरुष प्रधान नृत्य है यह पाइका नृत्य का एकल रूप जैसा है।  
इसमें भी कलगी रह सकती है, परंतु यह अनिवार्य नहीं है।  


करिया झूमर नृत्य

महिला प्रधान इस नृत्य में महिलाएं अपनी सहेलियों के हाथों में हाथ डालकर घूम- घूम कर नाचती-गाती है।  

करम नृत्य 

यह नृत्य करमा पर्व के अवसर पर सामूहिक रूप से किया जाता है यह नृत्य झुककर होता है करम के दो भेद हैं :-खेमटा  और झीनसारी।  

खेमटा में गति अत्यंत धीमी किंतु अत्यंत कमनिया होती है। 
झीनसारी रात के तीसरे पहर से सुबह मुर्गे की बांग देने तक चलने वाला नृत्य है। 


जतरा
 नृत्य

यह एक सामूहिक नृत्य है इसमें स्त्री-पुरुष एक-दूसरे का हाथ पकड़कर नृत्य करते हैं। 
इसमें युवक-युवतियां कभी वृत्ताकार और कभी अर्द्ध-वृत्ताकार रूप में नृत्य करते हैं। 

नचनी नृत्य 

यह एक पेशेवर नृत्य है नचनी (स्त्री) और रसिक (पुरुष नर्तक) कार्तिक पूर्णिमा के दिन विशेष रूप से इस नृत्य का प्रदर्शन करते हैं। 

अंगनाई नृत्य 

यह एक धार्मिक नृत्य है, जो पूजा के अवसर पर किया जाता है। 
यह सदनों के आंगन का नृत्य है, जिसे उरांवों ने भी अपना लिया है। 
इसके प्रमुख भेदों  में शामिल है:- पहिलसाझा, अधरतिया, विहनिया, लहसुआ, उदासी,लुझकी आदि।  

मुण्डारी नृत्य 

मुंडा जनजातियों  का रंग-बिरंगी पोशाक में यह एक  सामूहिक नृत्य है।  
इस समाज के प्रमुख नृत्य है -जदुर, ओर जदुर, नीर जदुर,जापी,गेना,चीटिद,छव, करम ,खेमटा,जरगा,ओरजरगा, जतरा,पाइका, बरु,जाली  नृत्य आदि।  

कठोरवा नृत्य

यह मुखौटे  पहनकर पुरुषों द्वारा लिया जाने वाला नृत्य है।  

मागे नृत्य

यह  नृत्य मुख्य रूप से हो जनजाति में प्रचलित है
यह महिला-पुरुषों का सामूहिक नृत्य है, जो माघ मास की पूर्णिमा में किया जाता है,इसमें बजाने, नाचने और गाने वाले नाचने वालियों के मध्य घिरे होते हैं

बा नृत्य

हो जनजातियों का यह एक प्रमुख नृत्य है
सरहुल के अवसर पर इस नृत्य में स्त्री-पुरुष सम्मिलित होकर नाचते-गाते तथा बजाते हैं 
एक साथ नृत्य तथा गीत वाले इस नृत्य में पुरुषों तथा महिलाओं का अलग दल होता है

हेरो नृत्य 

इस नृत्य में धान बोने की समाप्ति के उपरांत महिला-पुरुष सम्मिलित रूप से पारंपरिक वादियों के साथ नृत्य करते हैं

जोमनमा नृत्य

नया अन्न ग्रहण करने की खुशी में मनाए जाने वाले इस नृत्य में महिला-पुरुष सामूहिक रूप से नृत्य करते हैं। इसमें मादर, नगाड़े, बनम आदि बजाए जाते हैं

दसाई नृत्य

यह दशहरे के समय का पुरुष प्रधान नृत्य है, जिसमें हाथों में छोटे-छोटे डंडे नृतक पकड़े होते हैं 
नाचने वाले घर-घर जाकर लोगों के आंगनों में नाचते हैं और हर घर से अनाज प्राप्त करते हैं

सोहराई  नृत्य

यह नृत्य पालतू पशुओं के लिए बनाए जाने वाला उत्सव में होता है
इस नृत्य में महिला चुम्मावड़ी गीत गाती है


गेना और जपिद नृत्य

इसमें महिलाएं नृत्य करती है और पुरुष वाद्य संभालते हैं 
महिलाएं जहां कतार में जुड़कर नृत्य करती हैं, वहीं पुरुष गीतों के भावनानुरूप स्वतंत्र रूप से निर्णय करते हैं

जदुर नृत्य 

यह एक महिला प्रधान नृत्य है, जो सरहुल के समय किया जाता है अन्य  ऋतु या अवसर पर यह नृत्य वर्जित है 
इस तीव्र गति वाले नृत्य में महिलाएं झूमर की तरह जुड़ी हुई नृत्य करते हुए गीत गाती है 
जिसके मध्य में पुरुष नर्तक और वादक घिरे रहते हैं 
इसमें लय- ताल तथा राग के अनुरूप वृत्ताकार में दौड़ते हुए महिलाएं नृत्य करती हैं 


टुसु नृत्य

यह नृत्य मकर संक्रांति के अवसर पर महिलाओं द्वारा सामूहिक रूप से किया जाता है जिसमें वे टुसु के प्रतीक चौढ़ाल  को प्रवाहित करने हेतु जाते समय करती हैं 

रास नृत्य

कार्तिक पूर्णिमा में एक या अधिक नचनी द्वारा किया जाने वाला एक मनमोहक नृत्य है,इसमें पुरुष नर्तक, वादक एवं गायक होते हैं, जिनके मध्य नर्तिकाएँ नृत्य करती हैं 

जरगा नृत्य 

यह माघ त्योहार से संबंधित नृत्य है इसमें बालाये  एक-दूसरे की कमर पकड़कर जुड़ती है और दाएं-बाएं फिर दाहिनी और बढ़ती हुई नृत्य करती है  
यह मध्य गति का नृत्य है इसमें पैरों की चाल् या पद संचालन की अपनी विशिष्टता  है 


ओर जरगा नृत्य 

यह  नृत्य जरगा नृत्य के साथ-साथ चलता है  इसमें महिलाओं का एक ही दल होता है 
तीव्र गति से ने नृत्य  करती हुई महिलाएं वृत्ताकार घूमती हैं 
इनके मध्य गायक, वादक नर्तक पुरुषों की मंडली होती हैं

फगुवा  नृत्य

यह फगुआ (फरवरी) और चैत (अप्रैल) के संधिकाल का पुरुष प्रधान नृत्य है 
फगुआ चढ़ते ही फगुआ नृत्य की तैयारी शुरू हो जाती है
इसमें एक दल गाने वालों का तो दूसरा दल लोकने (दोहराने) वालों का होता है

घोड़ा नृत्य

यह नर्तकों द्वारा बिना पैर के घोड़े की आकृति बनाकर किया जाता है विशेष, मेलों ,त्योहारों ,उत्सवों  एवं बारात के स्वागत के समय का यह नृत्य है 
इसे  मुखड़े पर बांस के पहियों से बिना पैर के घोड़े का आकार दिया जाता है
बैठने के स्थान पर नर्तक इस तरह खड़ा रहता है जैसे वह घोड़े पर सवार है 
नर्तक बाएं हाथ से घोड़े की लगाम और दाहिने हाथ से दोधारी तलवार चमकाते रहता है
मुस्कुराता हुआ युद्धरत  विजयी राजा या सेनापति की तरह सीना ताने या नर्तक नृत्य करता है
नागपुरी क्षेत्र में घोड़ा नृत्य के लिए पांडे दुर्गानाथ राय मैसूर थे

जापी नृत्य

यह शिकार से विजयी  होकर लौटने का प्रतीक नृत्य है, इसमें स्त्री-पुरुष सामूहिक रूप से निर्णय करते हैं
यह मध्य गति का नृत्य है, इसके वादक , गायक, नर्तक पुरुष और महिलाओं से घिरे रहते हैं 
इस नृत्य में महिलाएं एक-दूसरे की कमर पकड़कर जुड़ी रहती है
पुरुषों का एक दल बजाता है दूसरे दल वाले अपने लय-ताल से नाचते-गाते हैं 
महिलाएं पुरुष नायक के गीतों की अंतिम कड़ी को गाती है

राचा नृत्य

यह नृत्य खूटी के दक्षिणी-पश्चिमी क्षेत्र में प्रचलित है 
इसे बरया खेलना या नाचना भी कहते हैं कहीं-कहीं इसे खड़िया नाच भी कहते हैं 
इसमें मादर तथा घंटी का विशेष महत्व रहता है
इस नृत्य में, पुरुष महिलाओं को आगे अपनी ओर आते देख पीछे हटते हैं 
दूसरे दौर में, पुरुष गीत गाते हुए बालाओं को नृत्य शैली से पीछे धकेलते हैं

➤धुड़िया नृत्य

सरहुल के उपरांत उरांव लोग खेत जोत लेते हैं और बीज बो देते  है। मौसम के अनुरूप इसमें जूते खेतों से धूल उड़ती है 
धूल उड़ाते हैं इससे इस काल के नृत्य  को धुड़िया  नृत्य कहते हैं 
इसे मांदर के ताल पर नाचा जाता है
Share:

Saturday, January 2, 2021

Jharkhand Ke Pramukh Mandir (झारखंड के प्रमुख मंदिर)

Jharkhand Ke Pramukh Mandir

झारखंड के प्रमुख मंदिर

छिन्नमस्तिका मंदिर (रजरप्पा)

➤यह मंदिर रामगढ़ जिला में अवस्थित है

यह दामोदर नदी और भेड़ा (भैरवी) नदी के संगम पर स्थित है

इसकी प्रसिद्ध शक्तिपीठ के रूप में है तंत्रिकों के लिए तंत्र-साधना हेतु इसे उपयुक्त स्थल माना जाता है

यहां शारदायी दुर्गा उत्सव में मां की महानवमी पूजा सबसे पहले संथाल आदिवासियों के द्वारा प्रारंभ की जाती है और इन्हीं के द्वारा प्रथम बकरे की बलि दी जाती है

इस मंदिर में देवी काली की धड़ से अलग सर वाली मूर्ति स्थापित है जिस कारण इसे छिन्नमस्तिका कहा जाता है

यह मूर्ति शक्ति के तीन रूपों-सौम्या, उग्र और काम में से उग्र रूप को प्रतिनिधित्व करती है

➤देवी की छिन्न मस्तक मानव मस्तिक की चंचलता का प्रतीक है

देवी के दाएं और बाएं डाकिनी और शाकिनी विराजमान है

देवी के पैरों के नीचे रती-कामदेव को दर्शाया गया है जो कामनाओं के दमन का प्रतीक है

➤छिन्नमस्तिका मंदिर को वन दुर्गा मंदिर भी कहा जाता है क्योंकि 1947 ईस्वी तक यह मंदिर घने वनों के बीच स्थित है

देवड़ी मंदिर (राँची)

यह मंदिर तमाड़ से 3 किलोमीटर दूर देवड़ी नामक ग्राम में स्थित है

यहां 16 भुजा देवी की मूर्ति है

देवी की मूर्ति के ऊपर शिव की मूर्ति है तथा अगल-बगल में सरस्वती, लक्ष्मी, कार्तिक और गणेश की मूर्तियां हैं

परंपरा के अनुसार इस मंदिर में सप्ताह में 6 दिन पाहन और एक दिन ब्राह्मण  पुजारी पूजा करते हैं

जगन्नाथ मंदिर (राँची)

इस  मंदिर की स्थापना 1691 नागवंशी राजा ठाकुर ऐनी शाह  के द्वारा की गई थी

यह पुरी के जगन्नाथ मंदिर की तर्ज पर यहां भी 100 फीट ऊंची मंदिर का निर्माण किया गया है

रथ यात्रा के समय यहां विशाल मेला लगता है

 यह मंदिर रांची के क्षेत्र में जगह-जगह नाथ स्थित है 

कौलेश्वरी मंदिर (चतरा)

मां कौलेश्वरी देवी का मंदिर चतरा में स्थित है

मां कौलेश्वरी देवी का मंदिर 1575 फुट की ऊंचाई वाले कलुआ पहाड़ पर स्थित है 

➤कोल्हुआ पहाड़ तीन धर्मों  हिंदू, बौद्ध और जैनों का संगम स्थल है 

यहां जैनों के प्रथम तीर्थंकर ऋषभ देव,पार्शवनाथ आदि की प्रतिमाएं स्थापित है 

कई मंदिरों के समूह को कालेश्वरी का मंदिर कहा जाता है

यह गुफाओं का मंदिर है

यहां पशु बलि दी जाती है और मेले का आयोजन होता है

मां भद्रकाली मंदिर (इटखोरी चतरा)  

यह मन्दिर चतरा जिला में चौपारण से 16 किलोमीटर की दूरी पर इटखोरी प्रखंड के भदौली गांव में स्थित है

इस मंदिर में भद्रकाली की मूर्ति प्रतिष्ठित है

यह मूर्ति शक्ति के रूप तीन रूपों -सौम्य, उग्र व काम में से सौम्य रूप का प्रतिनिधित्व करती है

यह एक ही शिलाखंड से तराशी गई मूर्ति है, जो साढ़े चार फीट ऊंची, ढाई फीट चौड़ी और 30 मन भारी है

संभवत यह  मंदिर पालकाल में (पांचवी-छटवीं शताब्दी) स्थापित की गई थी

यह सहत्रीलिंगी शिवलिंग भी है, जिसमें एक 1008 छोटे-छोटे शिवलिंग उकेरे गए हैं

मंदिर परिसर में ही कोठेश्वरनाथ स्तूप है, जिसके चारों ओर भगवान बुद्ध की मूर्तियां अंकित है

इसके ऊपर 4 इंच लंबा, चौड़ा और गहरा गड्ढा है, जिसमें हमेशा 3 इंच पानी बना रहता है

कुंदा का किला (चतरा)

यह किला चेरों का था, जो चतरा जिले के कुंदा  नामक स्थान पर स्थित है,अब यह खंडहर हो चुका है

इस कीले की मीनारें मुगल शैली से निर्मित है

किले के प्रांगण में एक कुआं है, जहां सुरंगनुमा रास्ता था

बैद्यनाथ मंदिर(देवघर)

इस मंदिर का निर्माण गिद्दौर राजवंश के दसवें राजा पूरणमल द्वारा कराया गया था

शिव  के द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक मनोकामना लिंग बैद्यनाथ धाम देवघर में स्थापित है

इस मंदिर के प्रांगण में कुल 22 मंदिर हैं

➤ये हैं - वैद्यनाथ, पार्वती, लक्ष्मीनारायण, तारा, काली, गणेश, सूर्य, सरस्वती, रामचंद्र, देवी अन्नपूर्णा, आनंद भैरव, नीलकंठ, गंगा, नरदेश्वर, राम-लक्ष्मण-सीता, जगत जननी, काल भैरव, ब्रह्म, संध्या गौरी, हनुमान, मनसा शंकर, बगुला माता काली के मंदिर

यह भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है

अकबर के सेनापति मानसिंह द्वारा यहां पर निर्मित एक मानसरोवर तालाब है

मंदिर के गर्भगृह के शिखर पर अष्टदल कमल के बीच में चंद्रकांत मणि है

यहां भगवान शिव के शिखर पर पंचशूल स्थापित है

युगल मंदिर(देवघर)

यह  मंदिर भी देवघर में है

इसे  नौलखा मंदिर के नाम से जाना जाता है इसका निर्माण में ₹900000 खर्च हुए थे

तपोवन मंदिर (देवघर)

यहां भगवान शिव का एक मंदिर है

➤यहाँ गुफाएँ हैं ,जिसमें ब्रह्मचारी लोग निवास  करते हैं

कहा जाता है कि कभी माता सीता ने यहां तपस्या की थी

बासुकीनाथ धाम (दुमका)

बासुकीनाथ धाम दुमका से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है

बैद्यनाथ धाम आने वाले प्राय: प्रत्येक तीर्थयात्री यहां आए बगैर दिन और अपनी यात्रा पूरी नहीं मानता

बासुकीनाथ की कथा समुद्र मंथन  से जुड़ी हुई है ,समुन्द्र मंथन में मंदराचल पर्वत को मथानी और बासुकीनाथ को रस्सी  बनाया गया था

बासुकिनाथ मंदिर को 150 वर्ष बताया जाता है, जिसका निर्माण बासकी तांती ने कराया था, जो हरिजन जाति का था

शिवरात्रि के दिन यहाँ  विशाल मेला लगता है

महामाया मंदिर (गुमला)

रांची-लोहरदगा-गुमला मार्ग में लोहरदगा से 14 किलोमीटर दूर गम्हरिया नामक स्थान में 1 किलोमीटर पश्चिम में हापामुनी नामक गांव में महामाया का मंदिर स्थित है

इस मंदिर का निर्माण नागवंशी राजा गजघंट ने 908 ईस्वी में करवाया था

इस मंदिर में काली मां की मूर्ति स्थापित है

यह एक तांत्रिक पीठ है

इस मंदिर का प्रथम पुरोहित द्विज हरिनाथ थे

टांगीनाथ मंदिर (गुमला)

यह मंदिर में मझगांव की पहाड़ी पर स्थित है

टांगी पहाड़ पर शिवलिंग के अलावा दुर्गा,भगवती, लक्ष्मी ,गणेश, अर्धनारीश्वर, विष्णु, सूर्यदेव, हनुमान आदि की मूर्तियां हैं

➤ये मूर्तियां प्राचीन शिल्पकला के  सुंदर नमूने हैं

मुख्य मंदिर का नाम टांगीनाथ अथवा शिव मंदिर है

मंदिर के अंदर एक विशाल शिवलिंग के अलावा आठ अन्य शिवलिंग भी है

हल्दीघाटी मंदिर (गुमला)

यह मंदिर गुमला जिले के कोराम्बे नामक स्थान में स्थित है

यहां का पहला शासक कोल तेली राजा था।बाद में यहाँ रक्सेल आये 

➤यह स्थान नागवंशी राजा तथा रक्सेल के लिए हल्दी घाटी के समान माना जाता है

कोरमबे में वासुदेव राय का मंदिर है

वासुदेव राय की काले पत्थरों से निर्मित आकर्षक मूर्ति प्राचीन परंपरा का प्रतीक है

मां योगिनी का मंदिर(गोड्डा)

यह मंदिर बराकोपा पहाड़ी पर स्थित है

मान्यता है अनुसार मां-सीता का दाहिना जांघ यहां गिरा था

यहां मां की प्रतिमा के रूप में जाँघ  की आकृति का शैल अंश है 

भक्तजन यहां लाल वस्त्र चढ़ाते हैं

इस मंदिर के समस्त निर्माण खर्चों का वहन श्रीमती चारुशिला देवी ने किया था

श्री बंशीधर मंदिर (गढ़वा) :-

यह मंदिर नगर उंटारी में राजा के गढ़ के पीछे स्थित है

इस मंदिर की स्थापना 1885 में की गई थी

यहां राधा कृष्ण की प्रतिमाएं स्थापित की गई हैं

सूर्य मंदिर (बंडू)

रांची-टाटा मार्ग पर बुंडू के नजदीक इस मंदिर की स्थापना की गई है

यह मंदिर सूर्य के रथ की आकृति में बनाया गया है

इसका निर्माण संस्कृति-विहार, रांची नामक एक संस्था ने किया है

मंदिर की खूबसूरती के संबंध में स्थानीय साहित्यकारों ने इसे 'पत्थर पर लिखी कविता' कहा है

बेनीसागर का शिव मंदिर (पश्चिमी सिंहभूम

इस मंदिर का निर्माण काल 602 से 625 के बीच बताया जाता है

संभवत:गौड़ शासक शशांक द्वारा इस मंदिर का निर्माण हुआ था

यहां से छठी शताब्दी की 33 छोटी-बड़ी मूर्तियां मिली हैं, जिसमें हनुमान, गणेश और दुर्गा की प्रतिमाएं प्रमुख है

शिवलिंग के साथ शिलालेख भी यहां से प्राप्त हुए हैं

उग्रतारा मंदिर नगर

यह मंदिर लातेहार जिला के चंदवा प्रखंड मुख्यालय से लगभग 9 किलोमीटर दूर पर नगर गांव (मंदाकिनी पहाड़) में अवस्थित है

इस मंदिर की प्रसिद्ध एक सिद्ध तंत्रपीठ के रूप में दूर-दूर तक व्याप्त है

मंदिर में लगभग 2 किलोमीटर दूर पश्चिम की ओर पहाड़ी पर एक मजार है

यह मजार मदारशाह के मजार के नाम से प्रसिद्ध है

काली कुल की देवी उग्रतारा और श्री कुल की देवी लक्ष्मी का एक ही स्थान पर स्थापित होना इस मंदिर की मुख्य विशेषता है



Share:

Friday, January 1, 2021

Dhoklo shohor shashan vyavastha (ढोकलो सोहोर शासन व्यवस्था)

Dhoklo shohor shashan vyavastha

खड़िया झारखंड की एक प्रमुख जनजाति है

ढोकलो सोहोर शासन व्यवस्था को ही खड़िया शासन व्यवस्था भी कहा जाता है 

यह प्रोटो ऑस्ट्रोलॉयड से सम्बन्ध रखती है

इनकी भाषा खड़िया है

जिसमें मुण्डारी,उरांव ,तथा आर्य भाषा के शब्द मिलते है इस जाति के लोग झारखंड में गुमला ,सिमडेगा तथा रांची ,उड़ीसा ,छत्तीसगढ़ राज्य में फैले हुए है 

झारखण्ड में ज़्यादातर लोग बीरु क्षेत्र सिमडेगा से हैं

खड़िया भाषा में ढोकलो का अर्थ -बैठक और सोहोर का अर्थ - अध्यक्ष 

Dhoklo shohor shashan vyavastha

इनका उद्गम स्थान रो:जंग बताया जाता है

1934-35 ईस्वी के आस -पास जब समस्त आदिवासी समाज शिक्षा के विकास के साथ जाग्रत हो रहा था, लगभग इसी समय खड़िया जाति के अग्रणी लोगों के द्वारा भी अपने समाज को संगठित करने,सशक्त बनाने हेतु अखिल भारतीय महासभा का गठन किया गया,जिसे ढोकलो के नाम से जाना जाता है।  

खड़िया लोगों में किसी शबर गांव के सभी निवासी एक गोत्र के होते हैं

जो ढोकलो का सभापति जो संपूर्ण खड़िया समाज का राजा होता है 'ढोकलो सोहोर' कहलाता है।

ढोकलो में सभी क्षेत्र के प्रमुख प्रतिनिधि ,महतो ,पाहन, करटाहा इकठ्ठा होते हैं, इस सभा में ' ढोकलो सोहोर' का चुनाव खड़िया जनजाति के लोगों द्वारा करते हैं

इनका कार्यकाल 3 वर्षों के लिए होता है

खड़िया तीन प्रकार के होते है 

1) पहाड़ी खड़िया या शबर खड़िया

2) दूध खड़िया,

3) ढेलकी  खड़िया

तीनों के स्वशासन के पद नामों में कुछ अंतर है। इनका ग्राम पंचायत अपने ढंग का होता है। 

पहाड़ी खड़िया 

(क) डंडिया : - पहाड़ी खड़िया गांव के प्रधान या शासक को डंडिया कहा जाता है

(ख) डिहुरी : -पहाड़ी खड़िया गांव के दूसरे प्रधानमंत्री को डिहुरी कहते हैं, यही गांव का पुजारी होता हैयह पूजा-पाठ, शादी-विवाह तथा पर्व-त्योहारों में मुख्य भूमिका निभाता है साथ ही यह डंडिया का सहयोगी भी रहता है

➤ दो से तीन दूध खड़िया और डेलकी खड़िया : - इन दोनों प्रकार के खड़िया गांवों  के प्रशासक या प्रधान को ढ़ोकलो शोहोर कहते हैं 

(ग) ढ़ोकलो सोहोर का अर्थ है :-  फा.डॉ.निकोलस टेटे  ने अपने शब्द खड़िया शब्द में कोष में 'सभापति' बताया है 

ग्राम सभा या ग्राम पंचायत (स्वशासन) के अध्यक्ष को भी ढोकलो सोहोर कहते हैं

यही ग्राम सभा का संचालन करता है तथा आगत मामलों का निपटारा करता है 

खड़िया स्वशासन के निम्न पद होते हैं

(1) महतो :- परंपरागत रूप से जिन लोगों ने गाँव बसाया था उन्हें महतो कह कर संबोधित किया जाता है 

 महतो को गांव का मुख्य व्यक्ति माना जाता है यह पद सामान्यत: वशांनुगत होता है 

 गाँव वालो की सहमति से महतो को बदला जा सकता है  

(2) करटाहा :- प्रत्येक खड़िया पारंपरिक गांव में करटाहा होता है 

20-25 गांवों  के अनुभवी लोग मिलकर पंचायत में गांव के सुयोग्य व्यक्ति को करटाहा चुनते हैं

इमानदारी, न्यायी, निष्पक्ष, बुद्धिमान, सामाजिक-सांस्कृतिक  विधानों को जानने वालों को ही करटाहा चुना जाता है

यह अवनैतिक होता है परंतु समाज में उसका मान-सम्मान होता है

सामाजिक कार्य करने वालों को दंड देना करटाहा का कार्य है, यह वंशानुगत नहीं होता है 

(3) रेड :- करटाहा से बड़ा रेड का होता है 

(4) परगना का राजा  :- रेड से ऊपर का पद परगना के खड़ियाओं के राजा का पद होता है 

 ग्राम-पंचायत के शासन, न्याय तथा अन्य मामले देखने का अधिकार इसे प्राप्त होता है 

(5) खड़िया राजा  :- परगना से ऊपर का पद खड़िया राजा का होता है यह पुरे खड़िया महासभा का सर्वोच्च सभापति होता है

इसको ही खड़िया राजा कहते है इसका अंतिम निर्णय होता है

(6) लिखाकड़ (सचिव या मंत्री)  :- खड़िया राजा के सचिव या मंत्री होते हैं जो राजा के सामाजिक, राजनीतिक, प्रशासनिक आदि कार्यों में सहयोग देते हैं

(7) तिंजाडकड़ या खजांची :- यह खड़िया राजा के आय -व्यय का विवरण रखता है 

(8) देवान या सलाहकार  :- यह भी खड़िया राजा का सलाहकार होता है 

खड़िया राजा, लिखवाड़ और देवान की सहायता से मामलों का निपटारा करता है।आवश्यकता पड़ने पर अपराधी को आर्थिक दंड भी दिया जाता है 

इस दंड से प्राप्त राशि से कुछ रकम अपने पदाधिकारियों, खजांची, लिखाकड़, देवान आदि को खड़िया राजा देता है,पर यह कभी भी वेतन की भांति नहीं होता। बाकी पैसे समाज या पंचायत को खस्सी भोज देने में लगाया जाता है 

(9) कालो या पाहन  :- प्रत्येक दूध खड़िया और डेलकी खड़िया गांव का एक पुजारी होता है उसे कालो या पाहन कहते हैं 

कालो धार्मिक कार्य करते हैं जो एक पुरोहित करता है हर गोत्र का एक कालो या पाहन होता है 

यह वंशानुगत होता है  

प्रायः बड़े खड़िया गांव के कालो को पाहन कहते हैं  

कालो तथा पाहन  दोनों परंपरागत होते हैं  

खड़िया समाज में भी पाहन (पुजारी) को गांव की ओर से पहनई जमीन दी जाती है

इसकी उपज से वह धार्मिक कार्यों का खर्च निकलता है

पाहन या कालो  के लिए मुंडा, उरांव में भी पहनई जमीन दी जाती है 

कालो या पाहन के वंश ना होने पर नए का चुनाव पारंपारिक पंचायत करती है 

मूलतः ढोकलाे  शोहोर  शब्द खड़िया महासभा के सभापति या अध्यक्ष के लिए प्रयोग किया जाता है 

परंतु अब खड़िया राजा के लिए ढोकलाे सोहोर का प्रयोग होने लगा है 

खड़िया समाज के नीचे के पदाधिकारी सभी खड़िया राजा या ढोकलाे  शोहोर के प्रति उत्तरदाई होते हैं

गांव की हर स्थिति की सूचना इसे देते हैं और इनकी निर्देश पर शासन या न्याय करते हैं 

Share:

Unordered List

Search This Blog

Powered by Blogger.

About Me

My photo
Education Marks Proper Humanity.

Text Widget

Featured Posts

Popular Posts